श्री शैलेश मटियानी कथा सम्‍मान 2007

latest-mp3-058.jpgदिनांक 19 जनवरी 2008 को हिन्‍दी भवन भोपाल में पंचम शरद व्‍याख्‍यान माला के अवसर पर सुश्री  पंखुरी सिन्‍हा को श्रीशैलेश मटियानी कथा सम्‍मान 2007 से नवाजा गया।युवा कथा लेखिका पंखुरी सिन्‍हा का जन्‍म 1975 में मुजफफरपुर में हुआ।1998 में पत्रकारिता में एमए करने के बाद कहानी लेखन शुरू किया तो प्रथम कहानी संग्रह ”कोई भी दिन ” ने साहित्‍य  जगत का ध्‍यान आक़ृष्‍ट किया।युवा कथा लेखिका के रूप में शैलेश मटियानी की स्‍मृति में स्‍थापित चित्रा कुमार पुरस्‍कार के लिए चयन की ये वाजिब हकदार है।

Published in: on जनवरी 19, 2008 at 5:00 अपराह्न  टिप्पणी करे  

श्री नरेश मेहता स्‍मृति वाडमय सम्‍मान 2007

latest-mp3-060.jpgदिनांक: 19 जनवरी 2008 को हिन्‍दी भवन भोपाल में पंचाम शरद व्‍याख्‍यान माला के अवसर पर मध्‍य प्रदेश राष्‍टभाषा प्रचार समिति एवं हिन्‍दी भवन न्‍यास व्‍दारा डा अंबिकादत्‍त शर्मा को श्री नरेश मेहता स्‍मृति वाडमय सम्‍मान 2007 प्रदान किया गया। सन 1960 में झारखण्‍ड में जन्‍मे श्री शर्मा ने काशी हिन्‍दू विश्‍वविद्याजय से दर्शनशास्‍त्र में एमए तथा पीएचडी की उपाधि प्राप्‍त की।श्री शर्मा ने ब्राहमण और श्रमण परंपरा का गहरा अध्‍ययन करने के साथ बौद्ध न्याय के मूल ग्रंथो में अभिनिवेश कर बौद्ध दर्शनाचार्य की उपाधि प्राप्‍त की । डा शर्मा वर्तमान में डा हरिसिंह गौर विश्‍वविद्यालय ,सागर में दर्शन शास्‍त्र विभाग में रीडर है।

Published in: on जनवरी 19, 2008 at 4:55 अपराह्न  टिप्पणी करे